Saturday, July 13, 2024
spot_img
HomePrayagrajबकरीद : इंदौर से इनोवा कार से लाया गया पांच लाख का...

बकरीद : इंदौर से इनोवा कार से लाया गया पांच लाख का बकरा, मंडी में राजस्थानी बकरों की मांग अधिक

करेली के अस्करी मार्केट मोड के पास भी बकरें की मंडी लग रही है। मूरतगंज के बकरा व्यापारी साकिब ने बताया कि उनके पास 40,000 का राजस्थानी बकरा है। उनके पास देसी नस्ल में सबसे महंगा बकरा 30,000 का था।

बकरीद नजदीक आने के साथ ही शहर की बकरा मंडियों में बोलियां लगने लगी हैं। इंदौर से लाए गए बकरे की बोली पांच लाख रुपये तक पहुंची। इस बकरे को इनोवा कार से लाया गया है। इसे बेली रोड के फर्नीचर व्यवसायी मुन्नू भाई ने खरीदा। ईद उल-अजहा यानी बकरीद सोमवार को है। पर्व नजदीक आने के साथ ही बकरा मंडियों में बकरा खरीदने वालों का तांता लगने लगा है। बकरीद जैसे-जैसे करीब आ रहा है, वैसे-वैसे बकरा मंडी में खरीदारों की तादाद बढ़ रही है। शहर के हटिया, करैलाबाग, अस्करी मार्केट रोड करेली, अकबरपुर, नखासकाेहना, बैरीयर, अटाला आदि स्थानों पर बकरा मंडी लग रही है।

स्थानीय व्यापारियों के अलावा खीरी, मनौरी, असरावल, सल्लाहपुर और कौशाम्बी के सरायअकिल, भरवारी, मंझनपुर समेत कई ग्रामीण क्षेत्रों से भी पशु पालक बकरे बेचने मंडी आ रहे हैं। इस साल पशुओं के दाम पिछले वर्षों की तुलना में बढ़ गए हैं। इससे खरीददारी पर असर पड़ रहा है। राजस्थानी बकरे लाेगों को खूब पसंद आ रहे हैं। राजस्थानी बकरे देसी बकरों से आकार में बड़े होते हैं।

हटिया बकरा मंडी में मूरतगंज से आए व्यापारी इकबाल अहमद ने बताया कि उनके पास कुल देसी और राजस्थानी 60 बकरों में 55 बिक चुके हैं। इकबाल इस बार 32,000 से 50,000 रुपये तक के बकरे बेच चुके हैं। बकरा लेने आए हटिया निवासी शमशेर अली ने बताया कि पिछले साल से इस साल बकरों के दाम लगभग दोगुने हैं। जो बकरे पिछले साल 6,000 से 7,000 रुपये में थे वह इस साल 10,000 से 13,000 रुपये में बिक रहे हैं। हटिया के चंदा पहलवान ने 1.25 लाख रुपये का बकरा खरीदा है। बकरा खरीदने आए बैरियर चौराहा, नूरउल्लाह रोड निवासी इजहार अहमद ने बताया कि चांद दिखने के बाद से ही कुर्बानी के लिए बकरे खरीदे जाने लगते हैं। बकरे की कुर्बानी बकरीद से लेकर तीन दिन तक चलती है।

Goat worth five lakhs brought from Indore in Innova car, demand for Rajasthani goats is high in the market.
करैलाबाग रोड में पेड़ की छांव में बकरा बेच रहे खीरी निवासी हरिश्चंद्र ने बताया कि उनके पास 20,000 से 25,000 रुपये के सात राजस्थानी और देसी बकरे हैं। उन्होंने इन्हें 5,000-5,000 रुपये में पिछले साल बकरीद से पहले खरीदा था। उन्होंने बताया कि एक साल के ऊपर उम्र वाले बकरों को ही लोग कुर्बानी के लिए ले जाते हैं। एक साल से ज्यादा उम्र के बकरों की पहचान उनके दांत होते हैं।

करेली के अस्करी मार्केट मोड के पास भी बकरें की मंडी लग रही है। मूरतगंज के बकरा व्यापारी साकिब ने बताया कि उनके पास 40,000 का राजस्थानी बकरा है। उनके पास देसी नस्ल में सबसे महंगा बकरा 30,000 का था। उन्होंने बताया कि इस बार राजस्थानी नस्ल के बकरे 65,000 से 70,000 रुपये तक बिके हैं। अकबरपुर निवासी मो. आफताब ने बताया कि बकरे इस बार महंगे हैं। कौशाम्बी के सरायअकिल के व्यापारी इम्तियाज अली, कुंवर बहादुर और मो. सलीम ने बताया कि उनके पास 10,000 से 18,000 रुपये तक के बकरे हैं। उनके पास बकरों में देसी और राजस्थानी दोनों हैं। बकरों के दाम ज्यादा हाेने के कारण खरीददार कम आ रहे हैं।

Courtsyamarujala.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments