Tuesday, June 25, 2024
spot_img
HomeeducationNEET UG: नीट यूजी ग्रेस मार्क्स की जांच के लिए कमेठी गठित,...

NEET UG: नीट यूजी ग्रेस मार्क्स की जांच के लिए कमेठी गठित, 1500 से अधिक उम्मीदवारों के अंकों की होगी समीक्षा

NEET 2024: शिक्षा मंत्रालय ने 1,500 से अधिक उम्मीदवारों को दिए गए ग्रेस मार्क्स की समीक्षा के लिए चार सदस्यीय पैनल का गठन किया है। एनटीए के महानिदेशक सुबोध कुमार सिंह ने परीक्षा में किसी भी पेपर लीक और अनियमितताओं से इनकार किया है।

NEET UG 2024: नीट-यूजी मेडिकल प्रवेश परीक्षा में अंकों में वृद्धि के आरोपों के बीच, राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) ने शनिवार को घोषणा की कि शिक्षा मंत्रालय ने 1,500 से अधिक उम्मीदवारों को दिए गए ग्रेस मार्क्स की समीक्षा के लिए चार सदस्यीय पैनल का गठन किया है। नीट यूजी रिजल्ट में गड़बड़ी के आरोपों के चलते एनटीए ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी आरोपों पर स्पष्टीकरण दिया।

एनटीए के महानिदेशक सुबोध कुमार सिंह ने कहा, “1,500 से अधिक उम्मीदवारों के परिणामों की समीक्षा के लिए एक उच्चस्तरीय समिति गठित की गई है। यूपीएससी के पूर्व अध्यक्ष की अध्यक्षता वाली चार सदस्यीय समिति एक सप्ताह के भीतर अपनी सिफारिशें प्रस्तुत करेगी और इन उम्मीदवारों के परिणामों में संशोधन किया जा सकता है।”

एनटीए ने किसी भी अनियमितता से इनकार किया और कहा कि एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकों में किए गए बदलाव और परीक्षा केंद्रों पर समय गंवाने के लिए ग्रेस मार्क्स छात्रों के अधिक अंक लाने के कुछ कारण थे। सिंह ने परीक्षा में किसी भी पेपर लीक और अनियमितताओं से इनकार किया।

उन्होंने कहा, “अनुग्रह अंक दिए जाने से परीक्षा के योग्यता मानदंडों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है और प्रभावित उम्मीदवारों के परिणामों की समीक्षा से प्रवेश प्रक्रिया प्रभावित नहीं होगी।”

यह पूछे जाने पर कि क्या कुछ छात्रों के लिए परीक्षा फिर से आयोजित की जाएगी, NTA महानिदेशक ने कहा, यह समिति की सिफारिशों के आधार पर तय किया जाएगा।

विशेषज्ञों के अनुसार, NEET UG 2024 के परिणाम में अंकों की वृद्धि से इस वर्ष मेडिकल स्कूल में स्थान प्राप्त करना और भी कठिन हो जाएगा। कुछ इच्छुक छात्रों ने परिणाम रद्द करने और फिर से परीक्षा कराने की मांग के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का रुख किया है।

मामलें ने लिया राजनीतिक मोड़

इस मुद्दे ने राजनीतिक मोड़ भी ले लिया, जब आप ने कथित अनियमितताओं की सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एसआईटी जांच की मांग की और कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पेपर लीक, धांधली और भ्रष्टाचार कई परीक्षाओं का अभिन्न अंग बन गए हैं। पार्टी ने भाजपा पर युवाओं को धोखा देने और उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का भी आरोप लगाया।

कांग्रेस प्रमुख मल्लिकार्जुन खड़गे ने शुक्रवार को हिंदी में एक पोस्ट में कहा, “इसके लिए सीधे तौर पर मोदी सरकार जिम्मेदार है। भर्ती परीक्षाओं में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को कई अनियमितताओं का सामना करना पड़ता है, पेपर लीक के चक्रव्यूह में फंसना उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ है। भाजपा ने देश के युवाओं को धोखा दिया है।”

उन्होंने कहा, “हम मांग करते हैं कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में उच्च स्तरीय जांच की जाए ताकि नीट और अन्य परीक्षाओं में शामिल होने वाले हमारे प्रतिभाशाली छात्रों को न्याय मिल सके।”

महाराष्ट्र सरकार ने पिछले महीने हुई नीट परीक्षा को तत्काल रद्द करने की मांग की है और आरोप लगाया है कि इसके नतीजों से राज्य के छात्रों के साथ अन्याय हुआ है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने कहा कि नीट के ताजा नतीजों से एक बार फिर डीएमके के परीक्षा का विरोध करने के रुख की पुष्टि हुई है। उन्होंने कहा कि प्रवेश परीक्षा सामाजिक न्याय और संघवाद के खिलाफ है।

कई जगहों से दोबारा परीक्षा कराने की मांग की जा रही है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि छह परीक्षा केंद्रों पर समय की हानि की भरपाई के लिए दिए गए अनुग्रह अंकों के कारण अंकों में वृद्धि हुई है और अन्य उम्मीदवारों के अवसरों के साथ छेड़छाड़ की गई है। ये केंद्र मेघालय, हरियाणा के बहादुरगढ़, छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा और बालोद, गुजरात के सूरत और चंडीगढ़ में हैं।

मेडिकल प्रवेश परीक्षा का परिणाम 4 जून को घोषित किया गया था। हरियाणा के एक ही केंद्र से छह सहित 67 उम्मीदवारों ने परीक्षा में पहला स्थान साझा किया था। इस वर्ष परीक्षा के लिए रिकॉर्ड 24 लाख से अधिक उम्मीदवारों ने पंजीकरण कराया था।

Courtsyamarujala.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments