Tuesday, June 25, 2024
spot_img
HomePrayagrajMathura News: उड़नखटोले में बैठकर बांकेबिहारी मंदिर तक पहुंचेंगे श्रद्धालु, इन मंदिरों...

Mathura News: उड़नखटोले में बैठकर बांकेबिहारी मंदिर तक पहुंचेंगे श्रद्धालु, इन मंदिरों तक पहुंचना भी होगा आसान

श्रीकृष्ण की जन्म वृंदावन और लीलास्थली मथुरा-वृंदावन में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु रोप-वे के जरिये आराध्य बांकेबिहारी के मंदिर तक पहुंच सकेंगे। इस परियोजना की शुरुआत वृंदावन से की जाएगी।

श्रीकृष्ण की जन्म और लीलास्थली मथुरा-वृंदावन में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालु रोप-वे के जरिए आराध्य बांकेबिहारी सहित अन्य प्रमुख मंदिरों तक पहुंच सकेंगे। इस परियोजना से शुरुआत वृंदावन से की जाएगी। प्रस्तावित क्षेत्र का शनिवार को उत्तर प्रदेश तीर्थ विकास परिषद के अधिकारियों ने तकनीकी टीम के साथ निरीक्षण किया। रोप-वे के बनने के बाद वृंदावन में लगने वाले जाम की समस्या से निजात मिल जाएगी। इस योजना पर 80 से 100 करोड़ रुपये प्रति किलोमीटर खर्च आने का प्रारंभिक अनुमान है। परियोजना तीन चरणों में पूरी होगी। पहले और दूसरे चरण के तहत वृंदावन और तीसरे चरण में मथुरा में विस्तार होगा।

उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद ने नेशनल रोप-वे डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के साथ मिलकर वृहद रोप-वे का प्रस्ताव तैयार किया है। इसके लिए परिषद के सीईओ श्याम बहादुर सिंह और नेशनल रोप-वे डेवलपमेंट प्रोग्राम के सीईओ प्रकाश गौड़ सहित अन्य अधिकारियों ने निरीक्षण किया। सीईओ ने बताया कि रोप-वे का प्लान तीन चरणों में पूरा होगा।
प्रथम चरण में यह छटीकरा मार्ग पर वैष्णो देवी मंदिर से शुरू होकर बिहारीजी मंदिर होकर दारुक पार्किंग तक जाएगा। इसके बीच चंद्रोदय मंदिर, मल्टीलेवल पार्किंग, प्रेम मंदिर, इस्कॉन मंदिर, अटल्ला चुंगी तक आठ स्टेशन बनाए जाएंगे। पूरी दूरी में 40 टावर बनाए जाएंगे। पहले चरण में बनने वाला रोप-वे 7.9 किमी लंबा होगा। यह दूरी 4 मीटर प्रति सेकंड की गति से लगभग 32 मिनट में पूरी होगी।

रोप-वे के जरिए प्रति घंटा 1500 से 2000 व्यक्ति सफर कर सकेंगे। इस तरह प्रतिदिन करीब 12000 लोग रोप-वे के जरिए वृंदावन के विभिन्न मंदिरों तक जा सकेंगे। प्रारंभिक निरीक्षण के बाद ड्रोन सर्वे किया जाएगा। द्वितीय चरण में रामताल पार्किंग और वृंदावन बाईपास तक और तृतीय चरण में मथुरा में बिरला मंदिर, द्वारिकाधीश मंदिर और श्रीकृष्ण जन्मस्थान तक विस्तार किया जाएगा। रोप-वे की ऊंचाई मास्टर प्लान में निर्धारित भवन निर्माण की अनुमति से 10 मीटर ऊंची होगी, ताकि किसी भी प्रकार का व्यवधान पैदा न हो। सीईओ ने बताया कि रोप-वे की प्रस्तावित परियोजना के अमल में आने के बाद श्रद्धालु सड़कों पर भीड़ में फंसने के बजाय आसानी से मंदिर तक पहुंच सकेंगे।

परियोजना पर एक नजर
– छटीकरा मार्ग से लेकर दारुक पार्किंग तक बनेंगे आठ स्टेशन
– 40 टावरों पर टिके रोप-वे के जरिए प्रति घंटे 1500-2000 व्यक्ति कर सकेंगे सफर
– प्रथम चरण में छटीकरा मार्ग पर वैष्णो देवी मंदिर से शुरू होकर दारुक पार्किंग तक जाएगा।
– चंद्रोदय मंदिर, मल्टी लेवल पार्किंग, प्रेम मंदिर इस्कॉन मंदिर, अटल्ला चुंगी तक आठ स्टेशन बनाए जाएंगे।
– मथुरा में बिरला मंदिर, द्वारिकाधीश और श्रीकृष्ण जन्म स्थान तक होगा रोप-वे का विस्तार
– रोप-वे की ऊंचाई मास्टर प्लान में निर्धारित भवन निर्माण की अनुमति से 10 मीटर ऊंची होगी
– प्रथम चरण की प्रस्तावित लंबाई 7.9 किमी है।
Courtsyamarujala.com
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments